राज्य » कार्यपालिका, विधान मंडल, उच्च न्यायालय, अधीनस्थ न्यायालय

Union Of India And Territory

अध्याय 1- साधारण General 

  • अनुच्छेद 152 : परिभाषा 

अध्याय 2- कार्यपालिका The Executive )

राज्यपाल The Governor ) 

  • अनुच्छेद 153 : राज्यों के राज्यपाल 
  • अनुच्छेद 154 : राज्य की कार्यपालिका शक्ति 
  • अनुच्छेद 155 : राज्यपाल की नियुक्ति 
  • अनुच्छेद 156 : राज्यपाल की पदावधि 
  • अनुच्छेद 157 : राज्यपाल नियुक्त होने के लिए अर्हताएं 
  • अनुच्छेद 158 : राज्यपाल के पद के लिए शर्ते 
  • अनुच्छेद 159 : राज्यपाल द्वारा शपथ या प्रतिज्ञान 
  • अनुच्छेद 160 : कुछ आकस्मिकताओं में राज्यपाल के कृत्यों का निर्वहन 
  • अनुच्छेद 161 : क्षमा आदि की और कुछ मामलों में दंडादेश के निलंबन, परिहार या लघुकरण की राज्यपाल की शक्ति 
  • अनुच्छेद 162 : राज्य की कार्यपालिका शक्ति का विस्तार 

मंत्रि-परिषद ( Council Of Ministers )

  • अनुच्छेद 163 : राज्यपाल को सहायता और सलाह देने के लिए मंत्रि परिषद 
  • अनुच्छेद 164 : मंत्रियों के बारे में अन्य उपबंध 

राज्य का महाधिवक्ता ( Advocate General For The State ) 

  • अनुच्छेद 165 : राज्य का महाधिवक्ता 

सरकारी कार्य का संचालन ( Conduct Of Government Business ) 

  • अनुच्छेद 166 : राज्य की सरकार के कार्य का संचालन 
  • अनुच्छेद 167 : राज्यपाल को जानकारी देने आदि के संबंध में मुख्यमंत्री के कर्तव्य 

अध्याय 3- राज्य का विधान मंडल ( The State Legislature ) 

साधारण General )

  • अनुच्छेद 168 : राज्यों के विधान-मंडलों का गठन 
  • अनुच्छेद 169 : राज्यों में विधान परिषदों का उत्पादन या सृजन 
  • अनुच्छेद 170 : विधान सभाओं की संरचना 
  • अनुच्छेद 171 : विधान परिषदों की संरचना 
  • अनुच्छेद 172 : राज्यों के विधान मंडलों की अवधि 
  • अनुच्छेद 173 : राज्य के विधान-मंडल के सत्र, सत्रावसान और विघटन 
  • अनुच्छेद 174 : राज्य के विधान-मंडल के सत्र, सत्रावसान और विघटन 
  • अनुच्छेद 175 : सदन या सदनों में अभिभाषण का और उनको संदेश भेजने का राज्यपाल का अधिकार 
  • अनुच्छेद 176 : राज्यपाल का विशेष अभिभाषण 
  • अनुच्छेद 177 : सदनों के बारे में मंत्रियों और महाधिवक्ता के अधिकार

राज्य के विधान-मंडल के अधिकारी ( Officers Of The State Legislature )

  • अनुच्छेद 178 : विधानसभा का अध्यक्ष और उपाध्यक्ष 
  • अनुच्छेद 179 : अध्यक्ष और उपाध्यक्ष का पद रिक्त होना, पदत्याग और पद से हटाया जाना 
  • अनुच्छेद 180 : अध्यक्ष के पद के कर्तव्यों का पालन करने या अध्यक्ष के रूप में कार्य करने की उपाध्यक्ष या अन्य व्यक्ति को शक्ति 
  • अनुच्छेद 181 : जब अध्यक्ष या उपाध्यक्ष को पद से हटाने का कोई संकल्प विचाराधीन है तब उसका पीठासीन न होना 
  • अनुच्छेद 182 : विधान परिषद का सभापति और उपसभापति 
  • अनुच्छेद 183 : सभापति और उपसभापति का पद रिक्त होना पदत्याग और पद से हटाया जाना 
  • अनुच्छेद 184 : सभापति के पद के कर्तव्यों का पालन करने या सभापति के रूप में कार्य करने की उपसभापति या किसी अन्य को शक्ति 
  • अनुच्छेद 185 : जब सभापति या उपसभापति को पद से हटाने का कोई संकल्प विचाराधीन है तब उसका पीठासीन न होना 
  • अनुच्छेद 186 : अध्यक्ष और उपाध्यक्ष तथा सभापति और उपसभापति के वेतन और भत्ते 
  • अनुच्छेद 187 : राज्य के विधान-मंडलों का सचिवालय 

कार्य संचालन ( Conduct Of Business ) 

  • अनुच्छेद 188 : सदस्यों द्वारा शपथ या प्रतिज्ञान 
  • अनुच्छेद 189 : सदनों में मतदान, रिक्तियों के होते हुए भी | सदनों की कार्य करने की शक्ति और गणपूर्ति 

सदस्यों की निरर्हताएं ( Disqualificationjof Members ) 

  • अनुच्छेद 190 : स्थानों का रिक्त होना 
  • अनुच्छेद 191 : सदस्यता के लिए निरर्हताएं 
  • अनुच्छेद 192 : सदस्यों की निरर्हताओं से संबंधित प्रश्नों पर विनिश्चय 
  • अनुच्छेद 193 : अनुच्छेद 188 के अधीन शपथ लेने या प्रतिज्ञा करने से पहले या अर्हित न होते हुए या निरर्हित किए जाने पर बैठने और मत देने के लिए शक्ति 

राज्यों के विधान-मंडलों और उनके सदस्यों की शक्तियांविशेषाधिकार और उन्मुक्तियां ( Powers, Priviledges And Immunities Of State Legislatures And Their Members ) 

  • अनुच्छेद 194 : विधान-मंडलों के सदनों की तथा उनके सदस्यों और समितियों की शक्तियां, विशेषाधिकार आदि
  • अनुच्छेद 195 : सदस्यों के वेतन और भत्ते 

विधायी प्रक्रिया ( Legislative Procedure ) 

  • अनुच्छेद 196 : विधेयकों के मुरःस्थापन और पारित किए जाने के संबंध में उपबंध 
  • अनुच्छेद 197 : धन विधेयकों से मित्र विधेयकों के बारे में। विधान परिषद की शक्तियों पर निर्बधन 
  • अनुच्छेद 198 : धन विधेयकों के संबंध में विशेष प्रक्रिया 
  • अनुच्छेद 199 : ‘धन विधेयक’ की परिभाषा 
  • अनुच्छेद 200 : विधेयकों पर अनुमति 
  • अनुच्छेद 201 : विचार के लिए आरक्षित विधेयक

 वित्तीय विषयों के संबंध में प्रक्रिया Procedure In Financial Matters 

  • अनुच्छेद 202 : वार्षिक वित्तीय विवरण 
  • अनुच्छेद 203 : विधान-मंडल में प्राक्कलनों के संबंध में प्रक्रिया
  • अनुच्छेद 204 : विनियोग विधेयक 
  • अनुच्छेद 205 : अनुपूरक, अतिरिक्त या अधिक अनुदान 
  • अनुच्छेद 206 : लेखानुदान, प्रत्ययानुदान और अपवादानुदान 
  • अनुच्छेद 207 : वित्त विधेयकों के बारे में विशेष उपबंध 

साधारणतया प्रक्रिया ( Procedure Generally ) 

  • अनुच्छेद 208 : प्रक्रिया के नियम
  • अनुच्छेद 209 : राज्य के विधान-मंडल में वित्तीय कार्य संबंधी प्रक्रिया का विधि द्वारा विनियमन 
  • अनुच्छेद 210 : विधान-मंडल में प्रयोग की जाने वाली भाषा 
  • अनुच्छेद 211 : विधान-मंडलों में चर्चा पर निबंधन अनुच्छेद 212 : न्यायालयों द्वारा विधान-मंडल की कार्यवाहियों की जांच न किया जाना 

अध्याय 4- राज्यपाल की विधायी शक्ति ( Legislative Powers Of The Governor ) 

  • अनुच्छेद 213 : विधान-मंडल के विश्रांतिकाल में अध्यादेश प्रख्यापित करने की राज्यपाल की शक्ति 

अध्याय 5 – राज्यों के उच्च न्यायालय ( The High Courts Of The States ) 

  • अनुच्छेद 214 : राज्यों के लिए उच्च न्यायालय
  • अनुच्छेद 215 : उच्च न्यायालयों का अभिलेख न्यायालय होना 
  • अनुच्छेद 216 : उच्च न्यायालयों का गठन । 
  • अनुच्छेद 217 : उच्च न्यायालय के न्यायाधीश की नियुक्ति और उसके पद की शर्ते 
  • अनुच्छेद 218 : उच्चतम न्यायालय से संधित कुछ उपबंधों का उच्च न्यायालयों को लागू होना 
  • अनुच्छेद 219 : उच्च न्यायालयों के न्यायाधीशों द्वारा शपथ या प्रतिज्ञान 
  • अनुच्छेद 220 : स्थायी न्यायाधीश रहने के पश्चात्वि विधि-व्यवसाय पर निर्बधन । 
  • अनुच्छेद 221 : न्यायाधीशों के वेतन आदि
  • अनुच्छेद 222 : किसी न्यायाधीश का एक उच्च न्यायालय से दूसरे उच्च न्यायालय को अंतरण । 
  • अनुच्छेद 223 : कार्यकारी मुख्य न्यायमूर्ति की नियुक्ति 
  • अनुच्छेद 224 : अपर और कार्यकारी न्यायाधीशों की नियुक्ति 
  • अनुच्छेद 224-क : उच्च न्यायालयों की बैठकों में सेवा निवृत्त न्यायाधीशों की नियुक्ति 
  • अनुच्छेद 225 : कुछ रिट निकालने की उच्च न्यायालय की शक्ति 
  • अनुच्छेद 226 : कुछ रिट निकालने की उच्च न्यायालय की शक्ति 
  • अनुच्छेद 226-क : (निरसित) । 
  • अनुच्छेद 227 : सभी न्यायालयों के अधीक्षण की उच्च न्यायालय की शक्ति । 
  • अनुच्छेद 228 : कुछ मामलों का उच्च न्यायालय को अंतरण | 
  • अनुच्छेद 228-क : (निरसित) 
  • अनुच्छेद 229 : उच्च न्यायालयों के अधिकारी और सेवक तथा व्यय 
  • अनुच्छेद 230 : उच्च न्यायालयों की अधिकारिता का संघ राज्यक्षेत्रों पर विस्तार 
  • अनुच्छेद 231 : दो या अधिक राज्यों के लिए एक ही उच्च न्यायालय की स्थापना 

अध्याय 6- अधीनस्थ न्यायालय ( Subordinate Courts ) 

  • अनुच्छेद 233 : जिला न्यायाधीशों की नियुक्ति
  • अनुच्छेद 233-क : कुछ जिला न्यायाधीशों की नियुक्तियों का और उनके द्वारा दिए गए निग्रयों आदि का विधिमान्यकरण 
  • अनुच्छेद 234 : न्यायिक सेवा में जिला न्यायाधीशों से भिन्न व्यक्तियों की भर्ती । 
  • अनुच्छेद 235 : अधीनस्थ न्यायालयों पर नियंत्रण
  • अनुच्छेद 236 : निर्वचन 
  • अनुच्छेद 237 : कुछ वर्ग या वर्गों के मजिस्ट्रेटों पर इस अध्याय के उपबन्धों का लागू होना
Rate this post
What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro
Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Refresh