संघ » कार्यपालिका, संसद, न्यायपालिका, विधायी शक्तियां

Union Of India And Territory

अध्याय 1- कार्यपालिका The Executive )

राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ( The President And VicePresident ) 

  • अनुच्छेद 52 : भारत का राष्ट्रपति 
  • अनुच्छेद 53 : संघ की कार्यपालिका शक्ति
  • अनुच्छेद 54 : राष्ट्रपति का निर्वाचन 
  • अनुच्छेद 55 : राष्ट्रपति के निर्वाचन की रीति अनुच्छेद 56 : राष्ट्रपति की पदावधि 
  • अनुच्छेद 57 : पुनर्निवाचन के लिए पात्रता 
  • अनुच्छेद 58 : राष्ट्रपति निर्वाचित होने के लिए अर्हताएं 
  • अनुच्छेद 59 : राष्ट्रपति के पद के लिए शर्ते 
  • अनुच्छेद 60 : राष्ट्रपति द्वारा शपथ या प्रतिज्ञान 
  • अनुच्छेद 61 : राष्ट्रपति पर महाभियोग चलाने की प्रक्रिया 
  • अनुच्छेद 62 : राष्ट्रपति के पद में रिक्ति को भरने के लिए निर्वाचन करने का समय और आकस्मिक रिक्ति को भरने के लिए निर्वाचित व्यक्ति की पदावधि 
  • अनुच्छेद 63 : भारत का उपराष्ट्रपति 
  • अनुच्छेद 64 : उपराष्ट्रपति का राज्य सभा का पदेन सभापति होना 
  • अनुच्छेद 65 : राष्ट्रपति के पद में आकस्मिक रिक्ति के दौरान या उसकी अनुपस्थिति में उपराष्ट्रपति का राष्ट्रपति के रूप में कार्य करना या उसके कृत्यों का निर्वहन 
  • अनुच्छेद 66 : उपराष्ट्रपति का निर्वाचन 
  • अनुच्छेद 67: उपराष्ट्रपति की पदावधि।
  • अनुच्छेद 68 : उपराष्ट्रपति के पद में रिक्ति को भरने के लिए निर्वाचन करने का समय और आकस्मिक रिक्ति को भरने के लिए निर्वाचित व्यक्ति की पदावधि 
  • अनुच्छेद 69 : उपराष्ट्रपति द्वारा शपथ या प्रतिज्ञान 
  • अनुच्छेद 70 अन्य आकस्मिकताओं में राष्ट्रपति के कृत्यों का निर्वहन 
  • अनुच्छेद 11: राष्ट्रपति या उपराष्ट्रपति के निर्वाचन से संबंधित या संसक्त विषय 
  • अनुच्छेद 72 : क्षमा आदि की और कुछ मामलों में दंडादेश के निलंबन, परिहार या लघुकरण की राष्ट्रपति की शक्ति 
  • अनुच्छेद 73 : संघ की कार्यपालिका शक्ति का विस्तार 

मंत्रि-परिषद ( Council Of Ministers ) 

  • अनुच्छेद 74 : राष्ट्रपति को सहायता और सलाह देने के लिए मंत्रि-परिषद 
  • अनुच्छेद 75 : मंत्रियों के बारे में अन्य उपबंध 

भारत का महान्यायवादी ( The Attorney General Of India ) 

  • अनुच्छेद 76 : भारत का महान्यायवादी 

सरकारी कार्य का संचालन ( Conduct Of Government Business )

  • अनुच्छेद 77 : भारत सरकार के कार्य का संचालन 
  • अनुच्छेद 78 : राष्ट्रपति को जानकारी देने आदि के संबंध में प्रधानमंत्री के कर्तव्य 

अध्याय 2 – संसद ( Parliament )

साधारण General 

  • अनुच्छेद 79 : संसद का गठन 
  • अनुच्छेद 80 : राज्य सभा की संरचना 
  • अनुच्छेद 81 : लोक सभा की संरचना 
  • अनुच्छेद 82 : प्रत्येक जनगणना के प्रश्चात् पुनःसमायोजन 
  • अनुच्छेद 83 : संसद के सदनों की अवधि 
  • अनुच्छेद 84 : संसद की सदस्यता के लिए अर्हता 
  • अनुच्छेद 85 : संसद के सत्र, सत्रावसान और विघटन 
  • अनुच्छेद 86 : सदनों में अभिभाषण का और उनको संदेश भेजने का राष्ट्रपति का अधिकार 
  • अनुच्छेद 87 : राष्ट्रपति का विशेष अभिभाषण
  • अनुच्छेद 88 : सदनों के बारे में मंत्रियों और महान्यायवादी के अधिकार

संसद के अधिकारी ( Officers Of Parliament ) 

  • अनुच्छेद 89 : राज्य सभा का सभापति और उपसभापति 
  • अनुच्छेद 90 : उपसभापति का पद रिक्त होना, पदत्याग और पद से हटाया जाना 
  • अनुच्छेद 91 : सभापति के पद के कर्तव्यों का पालन करने या सभापति, के रूप में कार्य करने की उपसभापति या अन्य व्यक्ति की शक्ति 
  • अनुच्छेद 92 : जब सभापति या उपसभापति को पद से हटाने का कोई संकल्प विचाराधीन है तब उसका पीठासीन न होना 
  • अनुच्छेद 93 : लोकसभा का अध्यक्ष और उपाध्यक्ष 
  • अनुच्छेद 94 : अध्यक्ष और उपाध्यक्ष का पद रिक्त होना, पदत्याग और पद से हटाया जाना 
  • अनुच्छेद 95 : अध्यक्ष के पद के कर्तव्यों का पालन करने या अध्यक्ष के रूप में कार्य करने की उपाध्यक्ष या अन्य व्यक्ति की शक्ति 
  • अनुच्छेद 96 : जब अध्यक्ष या उपाध्यक्ष को पद से हटाने का कोई संकल्प विचाराधीन है तब उसका पीठासीन न होना 
  • अनुच्छेद 97 : सभापति और उपसभापति तथा अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के वेतन और भत्ते 
  • अनुच्छेद 98 : संसद का सचिवालय 

कार्य संचालन ( Conduct Of Business ) 

  • अनुच्छेद 99 : सदस्यों द्वारा शपथ या प्रतिज्ञान ।
  • अनुच्छेद 100 : सदनों के मतदान, रिक्तियों के होते हुए भी सदनों की कार्य करने की शक्ति और गणपूर्ति 

सदस्यों की निरर्हताएं ( Disqualification Of Members ) 

  • अनुच्छेद 101 : स्थानों का रिक्त होना
  • अनुच्छेद 102 : सदस्यों के लिए निरर्हताएं।
  • अनुच्छेद 103 : सदस्यों की निरर्हताओं से संबंधित प्रश्नों पर विनिश्चय 
  • अनुच्छेद 104 : अनुच्छेद 99 के अधीन शपथ लेने या प्रतिज्ञान करने से पहले या अर्हित न होते हुए या निरर्हित किए जाने पर बैठने और मत देने के लिए शक्ति 

संसद और उसके सदस्यों की शक्तियाँविशेषाधिकार और उन्मुक्तियाँ ( Powers’ Priviledges And Immunities Of Parliament And Its Members ) 

  • अनुच्छेद 105 : संसद के सदनों की तथा उनके सदस्यों और समितियों की शक्तियां, विशेषाधिकार आदि 
  • अनुच्छेद 106 : सदस्यों के वेतन और भत्ते 

विधायी प्रक्रिया ( Legislative Procedure )

  • अनुच्छेद 108 : कुछ दशाओं में दोनों सदनों की संयुक्त बैठक 
  • अनुच्छेद 109 : धन विधेयकों के संबंध में विशेष प्रक्रिया 
  • अनुच्छेद 110 : “धन विधेयक’ की परिभाषा अनुच्छेद 111 : विधेयकों पर अनुमति 

वित्तीय विषयों के संबंध में प्रक्रिया ( Procedure In Financial Matters ) 

  • अनुच्छेद 112 : वार्षिक वित्तीय विवरण 
  • अनुच्छेद 113 : संसद में प्राक्कलनों के संबंध में प्रक्रिया 
  • अनुच्छेद 114 : विनियोग विधेयक 
  • अनुच्छेद 115 : अनुपूरक, अतिरिक्त या अधिक अनुदान 
  • अनुच्छेद 116 : लेखानुदान, प्रत्यानुदान और अपवादनुदान 
  • अनुच्छेद 117 : वित्त विधेयकों के बारे में विशेष उपबंध | 

साधारणतया प्रक्रिया ( Procedure Generality ) 

  • अनुच्छेद 118 : प्रक्रिया के नियम
  • अनुच्छेद 119 : संसद में वित्तीय कार्य संबंधी प्रक्रिया का विधि द्वारा विनियमन 
  • अनुच्छेद 120 : संसद में प्रयोग की जाने वाली भाषा 
  • अनुच्छेद 121 : संसद में चर्चा पर निर्बन्धन 
  • अनुच्छेद 122 : न्यायालयों द्वारा संसद की कार्यवाहियों की | जांच न किया जाना 

अध्याय 3- राष्ट्रपति की विधायी शक्तियां ( Legislative Powers Of The President ) 

  • अनुच्छेद 123 : संसद के विश्रांतिकाल में अध्यादेश प्रख्यापित करने की राष्ट्रपति की शक्ति 

अध्याय 4- संघ की न्यायपालिका ( The Union Judiciary ) 

  • अनुच्छेद 124 : उद्यतम न्यायालय की स्थापना और गठन 
  • अनुच्छेद 125 : न्यायाधीशों के वेतन आदि अनुच्छेद 126 : कार्यकारी मुख्य न्यायमूर्ति की नियुक्ति 
  • अनुच्छेद 127 : तदर्थ न्यायमूर्तियों की नियुक्ति अनुच्छेद 128 : उद्यतम न्यायालय की बैठकों में सेवानिवृत न्यायाधीशों की उपस्थिति 
  • अनुच्छेद 129 : उच्चतम न्यायालय का अभिलेख न्यायालय होना 
  • अनुच्छेद 130 : उच्चतम न्यायालय का स्थान 
  • अनुच्छेद 131 : उद्यतम न्यायालय की आरंभिक अधिकारिता 
  • अनुच्छेद 131-क : (निरसित) 
  • अनुच्छेद 132 : कुछ मामलों में उच्च न्यायालयों से अपीलों में उद्यतम न्यायालय की अपीली अधिकारिता ।
  • अनुच्छेद 133 : उच्च न्यायालयों से सिविल विषयों से संबंधित अपीलों में उद्यतम न्यायालय की अपीली अधिकारिता 
  • अनुच्छेद 134-क : उद्यतम न्यायालय में अपील के लिए प्रमाणपत्र 
  • अनुच्छेद 135 : विद्यमान विधि के अधीन फेडरल न्यायालय की अधिकारिता और शक्तियों का उच्चतम न्यायालय द्वारा प्रयोक्तव्य होना 
  • अनुच्छेद 136 : अपील के लिए उद्यतम न्यायालय की विशेष इजाजत 
  • अनुच्छेद 137 : निग्रयों या आदेशों का उच्चतम न्यायालय द्वारा पुनर्विलोकन 
  • अनुच्छेद 138 : उच्चतम न्यायालय की अधिकारिता की वृद्धि 
  • अनुच्छेद 139 : कुछ रिट निकालने की शक्तियों का उच्चतम न्यायालय को प्रदत्त किया जाना 
  • अनुच्छेद 139-क : कुछ मामलों का अंतरण 
  • अनुच्छेद 140 : उच्चतम न्यायालय की आनुषंगिक शक्तियाँ 
  • अनुच्छेद 141 : उच्चतम न्यायालय द्वारा घोषित विधि का | सभी न्यायालयों पर आबद्धकर होना 
  • अनुच्छेद 142 : उच्चतम न्यायालय की डिक्रियों और आदेशों का प्रवर्तन और प्रकटीकरण आदि के बारे में आदेश 
  • अनुच्छेद 143 : उच्चतम न्यायालय से परामर्श करने की राष्ट्रपति की शक्ति 
  • अनुच्छेद 144 : सिविल और न्यायिक प्राधिकारियों द्वारा उच्चतम न्यायालय की सहायता में कार्य | किया जाना 
  • अनुच्छेद 144-क : (निरसित) 
  • अनुच्छेद 145 : न्यायालय के नियम आदि
  • अनुच्छेद 146 : उद्यतम न्यायालय के अधिकारी और सेवक तथा व्यय 
  • अनुच्छेद 147 : निर्वचन

अध्याय 5 – भारत का नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक ( Comptroller And Auditor General Of India ) 

  • अनुच्छेद 148 : भारत का नियंत्रक-महालेखापरीक्षक
  • अनुच्छेद 149 : नियंत्रक-महालेखापरीक्षक के कर्तव्य और शक्तियाँ 
  • अनुच्छेद 150 : संघ के राज्यों के लेखाओं का प्रारूप 
  • अनुच्छेद 151 : संपरीक्षा प्रतिवेदन
3.5/5 - (4 votes)
What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro
Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Refresh