Jaimini.in » ओम जय जगदीश हरे आरती लिखित में » गुरु गोबिंद सिंह जी का इतिहास » Guru Gobind Singh Ji

Guru Gobind Singh ji Jayanti | गुरु गोबिंद सिंह जी जयंती

Guru Gobind Singh ji Jayanti | गुरु गोबिंद सिंह जी जयंती
Guru Gobind Singh ji Jayanti | गुरु गोबिंद सिंह जी जयंती

Guru Gobind Singh ji | गुरु गो‍बिंद सिंह जी सिखों के दसवें गुरु हैं। इनका जन्म ( Guru Gobind Singh ji Jayanti | गुरु गोबिंद सिंह जी जयंती ) पौष सुदी 7वीं सन् 1666 को पटना में माता गुजरी जी तथा पिता श्री गुरु तेगबहादुर जी के घर हुआ। उस समय गुरु तेगबहादुर जी बंगाल में थे। उन्हीं के वचनोंनुसार गुरुजी का नाम गोविंद राय रखा गया, और सन् 1699 को बैसाखी वाले दिन गुरुजी पंज प्यारों से अमृत छक कर गोविंद राय से गुरु गोविंद सिंह जी बन गए। उनके बचपन के पांच साल पटना में ही गुजरे।

1675 को कश्मीरी पंडितों की फरियाद सुनकर श्री गुरु तेगबहादुर जी ने दिल्ली के चांदनी चौक में बलिदान दिया। श्री गुरु गोबिंद सिंह जी 11 नवंबर 1675 को गुरु गद्दी पर विराजमान हुए। धर्म एवं समाज की रक्षा हेतु ही गुरु गोबिंद सिंह जी ने 1699 ई. में खालसा पंथ की स्थापना की। पांच प्यारे बनाकर उन्हें गुरु का दर्जा देकर स्वयं उनके शिष्य बन जाते हैं और कहते हैं-जहां पांच सिख इकट्ठे होंगे, वहीं मैं निवास करूंगा। उन्होंने सभी जातियों के भेद-भाव को समाप्त करके समानता स्थापित की और उनमें आत्म-सम्मान की भावना भी पैदा की।

गुरु गोबिंद सिंह जी जी की पत्नियां, माता जीतो जी, माता सुंदरी जी और माता साहिबकौर जी थीं। बाबा अजीत सिंह, बाबा जुझार सिंह आपके बड़े साहिबजादे थे जिन्होंने चमकौर के युद्ध में शहादत प्राप्त की थीं। और छोटे साहिबजादों में बाबा जोरावर सिंह और फतेह सिंह को सरहंद के नवाब ने जिंदा दीवारों में चुनवा दिया था। युद्ध की दृष्‍टि से आपने केसगढ़, फतेहगढ़, होलगढ़, अनंदगढ़ और लोहगढ़ के किले बनवाएं। पौंटा साहिब आपकी साहित्यिक गतिविधियों का स्थान था।

दमदमा साहिब में आपने अपनी याद शक्ति और ब्रह्मबल से श्री गुरुग्रंथ साहिब का उच्चारण किया और लिखारी (लेखक) भाई मनी सिंह जी ने गुरुबाणी को लिखा। गुरुजी रोज गुरुबाणी का उच्चारण करते थे और श्रद्धालुओं को गुरुबाणी के अर्थ बताते जाते और भाई मनी सिंह जी लिखते जाते। इस प्रकार लगभग पांच महीनों में लिखाई के साथ-साथ गुरुबाणी की जुबानी व्याख्या भी संपूर्ण हो गई।

इसके साथ ही आप धर्म, संस्कृति और देश की आन-बान और शान के लिए पूरा परिवार कुर्बान करके नांदेड में अबचल नगर (श्री हुजूर साहिब) में गुरुग्रंथ साहिब को गुरु का दर्जा देते हुए और इसका श्रेय भी प्रभु को देते हुए कहते हैं- ‘आज्ञा भई अकाल की तभी चलाइयो पंथ, सब सिक्खन को हुक्म है गुरु मान्यो ग्रंथ।’ गुरु गोबिंद सिंह जी ने 42 वर्ष तक जुल्म के खिलाफ डटकर मुकाबला करते हुए सन् 1708 को नांदेड में ही सचखंड गमन कर दिया।

गुरु गोबिंद सिंह जी का इतिहास विस्तार में

Guru Gobind Singh ji Jayanti | गुरु गोबिंद सिंह जी जयंती (जन्म :- पौषशुक्ल सप्तमी संवत् 1723 विक्रमी तदनुसार 22 दिसम्बर 1666- ਜਯੋਤੀ ਜੋਤ 7 अक्टूबर 1708 ) सिखों के दसवें और अंतिम गुरु थे। श्री गुरू तेग बहादुर जी के बलिदान के उपरान्त 11 नवम्बर सन 1675 को 10 वें गुरू बने। आप एक महान योद्धा, चिन्तक, कवि, भक्त एवं आध्यात्मिक नेता थे। सन 1699 में बैसाखी के दिन उन्होंने खालसा पंथ (पन्थ) की स्थापना की जो सिखों के इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण दिन माना जाता है।

गुरु गोबिंद सिंह जी ने पवित्र ग्रंथ (ग्रन्थ) गुरु ग्रंथ साहिब को पूरा किया तथा उन्हें गुरु रूप में प्रतिष्ठित किया। बचित्तर नाटक उनकी आत्मकथा है। यही उनके जीवन के विषय में जानकारी का सबसे महत्वपूर्ण स्रोत है। यह दसम ग्रन्थ का एक भाग है। दसम ग्रन्थ (ग्रन्थ), गुरु गोबिंद सिंह जी की कृतियों के संकलन का नाम है।

उन्होने अन्याय, अत्याचार और पापों का खत्म करने के लिए और गरीबों की रक्षा के लिए मुगलों के साथ 14 युद्ध लड़े। धर्म के लिए समस्त परिवार का बलिदान उन्होंने किया, जिसके लिए उन्हें ‘सरबंसदानी’ (पूरे परिवार का दानी ) भी कहा जाता है। इसके अतिरिक्त जनसाधारण में वे कलगीधर, दशमेश, बाजांवाले, आदि कई नाम, उपनाम व उपाधियों से भी जाने जाते हैं।

गुरु गोविन्द सिंह जहाँ विश्व की बलिदानी परम्परा में अद्वितीय थे, वहीं वे स्वयं एक महान लेखक, मौलिक चिन्तक तथा संस्कृत सहित कई भाषाओं के ज्ञाता भी थे। उन्होंने स्वयं कई ग्रन्थों की रचना की। वे विद्वानों के संरक्षक थे। उनके दरबार में 52 कवियों तथा लेखकों की उपस्थिति रहती थी, इसीलिए उन्हें ‘संत सिपाही’ भी कहा जाता था। वे भक्ति तथा शक्ति के अद्वितीय संगम थे।

उन्होंने सदा प्रेम, सदाचार और भाईचारे का सन्देश दिया। किसी ने गुरुजी का अहित करने की कोशिश भी की तो उन्होंने अपनी सहनशीलता, मधुरता, सौम्यता से उसे परास्त कर दिया। गुरुजी की मान्यता थी कि मनुष्य को किसी को डराना भी नहीं चाहिए और न किसी से डरना चाहिए। वे अपनी वाणी में उपदेश देते हैं भै काहू को देत नहि, नहि भय मानत आन। वे बाल्यकाल से ही सरल, सहज, भक्ति-भाव वाले कर्मयोगी थे। उनकी वाणी में मधुरता, सादगी, सौजन्यता एवं वैराग्य की भावना कूट-कूटकर भरी थी। उनके जीवन का प्रथम दर्शन ही था कि धर्म का मार्ग सत्य का मार्ग है और सत्य की सदैव विजय होती है।

गुरु गोबिंद सिंह जी का जन्म नौवें सिख गुरु श्री गुरु तेग बहादुर जी और माता गुजरी के घर पटना जो आजकल बिहार की राजधानी हैं , में 22 दिसम्बर 1666 को हुआ था। जब वह पैदा हुए थे उस समय उनके पिता श्री गुरु तेग बहादुर जी असम में धर्म उपदेश को गये थे। उनके बचपन का नाम गोविन्द राय था। पटना में जिस घर में उनका जन्म हुआ था और जिसमें उन्होने अपने प्रथम चार वर्ष बिताये , वहीं पर अब तखत श्री हरिमंदर जी पटना साहिब स्थित है।

1670 में उनका परिवार फिर पंजाब आ गया। मार्च 1672 में उनका परिवार हिमालय के शिवालिक पहाड़ियों में स्थित चक्क नानकी नामक स्थान पर आ गया। चक्क नानकी ही आजकल आनन्दपुर साहिब कहलता है। यहीं पर इनकी शिक्षा आरम्भ हुई। उन्होंने फारसी, संस्कृत की शिक्षा ली और एक योद्धा बनने के लिए सैन्य कौशल सीखा।

गोविन्द राय जी नित्य प्रति आनदपुर साहब में आध्यात्मिक आनन्द बाँटते, मानव मात्र में नैतिकता, निडरता तथा आध्यात्मिक जागृति का सन्देश देते थे। आनन्दपुर वस्तुतः आनन्दधाम ही था। यहाँ पर सभी लोग वर्ण, रंग, जाति, सम्प्रदाय के भेदभाव के बिना समता, समानता एवं समरसता का अलौकिक ज्ञान प्राप्त करते थे। गोविन्द जी शान्ति, क्षमा, सहनशीलता की मूर्ति थे।

काश्मीरी पण्डितों का जबरन धर्म परिवर्तन करके मुसलमान बनाये जाने के विरुद्ध फरियाद लेकर गुरु तेग बहादुर जी के दरबार में आये और कहा कि हमारे सामने ये शर्त रखी गयी है कि है कोई ऐसा महापुरुष? जो इस्लाम स्वीकार नहीं कर अपना बलिदान दे सके तो आप सब का भी धर्म परिवर्तन नहीं किया जाएगा उस समय गुरु गोबिन्द सिंह जी नौ साल के थे। उन्होंने पिता गुरु तेग बहादुर जी से कहा आपसे बड़ा महापुरुष और कौन हो सकता है! कश्मीरी पण्डितों की फरियाद सुन उन्हें जबरन धर्म परिवर्तन से बचाने के लिए स्वयं इस्लाम न स्वीकारने के कारण 11 नवम्बर 1675 को औरंगज़ेब ने दिल्ली के चांदनी चौक में सार्वजनिक रूप से उनके पिता गुरु तेग बहादुर का सिर कटवा दिया। इसके पश्चात वैशाखी के दिन 29 मार्च 1676 को गोविन्द सिंह सिखों के दसवें गुरु घोषित हुए।

10वें गुरु बनने के बाद भी उनकी शिक्षा जारी रही। शिक्षा के अन्तर्गत उन्होनें लिखना-पढ़ना, घुड़सवारी तथा सैन्य कौशल सीखे 1684 में उन्होने चण्डी दी वार की रचना की। 1685 तक वह यमुना नदी के किनारे पाओंटा नामक स्थान पर रहे।

गुरु गोबिन्द सिंह की तीन पत्नियाँ थीं। 21 जून, 1677 को 10 साल की उम्र में उनका विवाह माता जीतो के साथ आनन्दपुर से 10 किलोमीटर दूर बसंतगढ़ में किया गया। उन दोनों के 3 पुत्र हुए जिनके नाम थे – जुझार सिंह, जोरावर सिंह, फ़तेह सिंह। 4 अप्रैल, 1684 को 17 वर्ष की आयु में उनका दूसरा विवाह माता सुन्दरी के साथ आनन्दपुर में हुआ। उनका एक बेटा हुआ जिसका नाम था अजित सिंह। 15 अप्रैल, 1700 को 33 वर्ष की आयु में उन्होंने माता साहिब देवन से विवाह किया। वैसे तो उनका कोई सन्तान नहीं था पर सिख पन्थ के पन्नों पर उनका दौर भी बहुत प्रभावशाली रहा।

खालसा पंथ की स्थापना

गुरु गोबिंद सिंह जी का नेतृत्व सिख समुदाय के इतिहास में बहुत कुछ नया ले कर आया। उन्होंने सन 1699 में बैसाखी के दिन खालसा जो की सिख धर्म के विधिवत् दीक्षा प्राप्त अनुयायियों का एक सामूहिक रूप है उसका निर्माण किया।

सिख समुदाय के एक सभा में उन्होंने सबके सामने पुछा – “कौन अपने सर का बलिदान देना चाहता है”? उसी समय एक स्वयंसेवक इस बात के लिए राज़ी हो गया और गुरु गोबिंद सिंह उसे तम्बू में ले गए और कुछ देर बाद वापस लौटे एक खून लगे हुए तलवार के साथ। गुरु ने दोबारा उस भीड़ के लोगों से वही सवाल दोबारा पुछा और उसी प्रकार एक और व्यक्ति राज़ी हुआ और उनके साथ गया पर वे तम्बू से जब बहार निकले तो खून से सना तलवार उनके हाथ में था। उसी प्रकार पांचवा स्वयंसेवक जब उनके साथ तम्बू के भीतर गया, कुछ देर बाद गुरु गोबिंद सिंह सभी जीवित सेवकों के साथ वापस लौटे और उन्होंने उन्हें पंज प्यारे या पहले खालसा का नाम दिया।

उसके बाद गुरु गोबिंद जी ने एक लोहे का कटोरा लिया और उसमें पानी और चीनी मिला कर दुधारी तलवार से घोल कर अमृत का नाम दिया। पहले 5 खालसा के बनाने के बाद उन्हें छठवां खालसा का नाम दिया गया जिसके बाद उनका नाम गुरु गोबिंद राय से गुरु गोबिंद सिंह रख दिया गया। उन्होंने पांच कारों का महत्व खालसा के लिए समझाया और कहा – केश, कंघा, कड़ा, किरपान, कच्चेरा।

इधर 27 दिसम्बर सन्‌ 1704 को दोनों छोटे साहिबजादे और जोरावर सिंह व फतेह सिंहजी को दीवारों में चुनवा दिया गया। जब यह हाल गुरुजी को पता चला तो उन्होंने औरंगजेब को एक जफरनामा (विजय की चिट्ठी) लिखा, जिसमें उन्होंने औरगंजेब को चेतावनी दी कि तेरा साम्राज्य नष्ट करने के लिए खालसा पंथ तैयार हो गया है।

8 मई सन्‌ 1705 में ‘मुक्तसर’ नामक स्थान पर मुगलों से भयानक युद्ध हुआ, जिसमें गुरुजी की जीत हुई। अक्टूबर सन्‌ 1706 में गुरुजी दक्षिण में गए जहाँ पर आपको औरंगजेब की मृत्यु का पता लगा। औरंगजेब ने मरते समय एक शिकायत पत्र लिखा था। हैरानी की बात है कि जो सब कुछ लुटा चुका था, (गुरुजी) वो फतहनामा लिख रहे थे व जिसके पास सब कुछ था वह शिकस्त नामा लिख रहा है। इसका कारण था सच्चाई। गुरुजी ने युद्ध सदैव अत्याचार के विरुद्ध किए थे न कि अपने निजी लाभ के लिए।

औरंगजेब की मृत्यु के बाद आपने बहादुरशाह को बादशाह बनाने में मदद की। गुरुजी व बहादुरशाह के संबंध अत्यंत मधुर थे। इन संबंधों को देखकर सरहद का नवाब वजीत खाँ घबरा गया। अतः उसने दो पठान गुरुजी के पीछे लगा दिए। इन पठानों ने गुरुजी पर धोखे से घातक वार किया, जिससे 7 अक्टूबर 1708 में गुरुजी (गुरु गोबिन्द सिंह जी) नांदेड साहिब में दिव्य ज्योति में लीन हो गए। अंत समय आपने सिक्खों को गुरु ग्रंथ साहिब को अपना गुरु मानने को कहा व खुद भी माथा टेका। गुरुजी के बाद माधोदास ने, जिसे गुरुजी ने सिक्ख बनाया बंदासिंह बहादुर नाम दिया था, सरहद पर आक्रमण किया और अत्याचारियों की ईंट से ईंट बजा दी।

गुरु गोविंदजी के बारे में लाला दौलतराय, जो कि कट्टर आर्य समाजी थे, लिखते हैं ‘मैं चाहता तो स्वामी विवेकानंद, स्वामी दयानंद, परमहंस आदि के बारे में काफी कुछ लिख सकता था, परंतु मैं उनके बारे में नहीं लिख सकता जो कि पूर्ण पुरुष नहीं हैं। मुझे पूर्ण पुरुष के सभी गुण गुरु गोविंदसिंह में मिलते हैं।’ अतः लाला दौलतराय ने गुरु गोविंदसिंहजी के बारे में पूर्ण पुरुष नामक एक अच्छी पुस्तक लिखी है।

इसी प्रकार मुहम्मद अब्दुल लतीफ भी लिखता है कि जब मैं गुरु गोविंदसिंहजी के व्यक्तित्व के बारे में सोचता हूँ तो मुझे समझ में नहीं आता कि उनके किस पहलू का वर्णन करूँ। वे कभी मुझे महाधिराज नजर आते हैं, कभी महादानी, कभी फकीर नजर आते हैं, कभी वे गुरु नजर आते हैं।

गुरु गोबिन्द सिंह का देहान्त 7 अक्टूबर, 1708 को हुआ था।

History of Guru Gobind Singh Ji in detail

Guru Gobind Singh ji (Punjabi pronunciation: ; 22 December 1666 – 7 October 1708), born Gobind Das or Gobind Rai the tenth Sikh Guru, a spiritual master, warrior, poet and philosopher. When his father, Guru Tegh Bahadur, was executed by Aurangzeb, Guru Gobind Singh was formally installed as the leader of the Sikhs at the age of nine, becoming the tenth and final human Sikh Guru. His four biological sons died during his lifetime – two in battle, two executed by the Mughal governor Wazir Khan.

Among his notable contributions to Sikhism are founding the Sikh warrior community called Khalsa in 1699 and introducing the Five Ks, the five articles of faith that Khalsa Sikhs wear at all times. Guru Gobind Singh is credited with the Dasam Granth whose hymns are a sacred part of Sikh prayers and Khalsa rituals. He is also credited as the one who finalized and enshrined the Guru Granth Sahib as Sikhism’s primary scripture and eternal Guru.

Family and early life

Guru Tegh Bahadar and a young Gobind Rai at the Anandpur Darbar.

Guru Gobind Singh ji was the only son of Guru Tegh Bahadur, the ninth Sikh guru, and Mata Gujri. He was born in Patna, Bihar on 22 December 1666 while his father was visiting Bengal and Assam. His birth name was Gobind Das/Rai, and a shrine named Takht Sri Patna Harimandar Sahib marks the site of the house where he was born and spent the first four years of his life. In 1670, his family returned to Punjab, and in March 1672 they moved to Chakk Nanaki in the Himalayan foothills of north India, called the Sivalik range, where he was schooled.

His father Guru Tegh Bahadur was petitioned by Kashmiri Pandits in 1675 for protection from the fanatic persecution by Iftikar Khan, the Mughal governor of Kashmir under Mughal Emperor Aurangzeb. Tegh Bahadur considered a peaceful resolution by meeting Aurangzeb, but was cautioned by his advisors that his life may be at risk. The young Gobind Rai – to be known as Gobind Singh after 1699 – advised his father that no one was more worthy to lead and make a sacrifice than him. His father made the attempt, but was arrested then publicly beheaded in Delhi on 11 November 1675 under the orders of Aurangzeb for refusing to convert to Islam and the ongoing conflicts between Sikhism and the Islamic Empire. Before dying Guru Tegh Bahadur wrote a letter to Guru Gobind Rai (the letter was called Mahalla Dasven and it is part of the Guru Granth Sahib) as one last test to find the next Guru, after his father’s martyrdom he was made the tenth Sikh Guru on Vaisakhi on 29 March 1676.

The education of Guru Gobind Singh ji continued after he became the 10th Guru, both in reading and writing as well as martial arts such as horse riding and archery. The Guru learned Farsi in a year and at the age of 6 started training in martial arts. In 1684, he wrote the Chandi di Var in Punjabi language – a legendary war between the good and the evil, where the good stands up against injustice and tyranny, as described in the ancient Sanskrit text Markandeya Purana. He stayed in Paonta, near the banks of river Yamuna, until 1685.

From Bhai Rupa showing the Guru at the age of 23 (contemporary painting from circa 1701)

Guru Gobind Singh ji had three wives:

  • At age 10, he married Mata Jito on 21 June 1677 at Basantgaṛh, 10 km north of Anandpur. The couple had three sons: Jujhar Singh (b. 1691), Zorawar Singh (b. 1696) and Fateh Singh (b. 1699).
  • at age 17, he married Mata Sundari on 4 April 1684 at Anandpur. The couple had one son, Ajit Singh (b. 1687).
  • at age 33, he married Mata Sahib Devan on 15 April 1700 at Anandpur. They had no children, but she had an influential role in Sikhism. Guru Gobind Singh proclaimed her as the Mother of the Khalsa.[39] The Guru initially rejected her marriage proposal he was married already and have four sons. The Sangat and the Guru’s family agreed to the marriage. but Guru Gobind Singh made it clear that his relationship with Mata Sahib Diwan will be spiritual one and not physical

The life example and leadership of Guru Gobind Singh ji have been of historical importance to the Sikhs. He institutionalized the Khalsa (literally, Pure Ones), who played the key role in protecting the Sikhs long after his death, such as during the nine invasions of Panjab and the holy war led by Ahmad Shah Abdali from Afghanistan between 1747 and 1769.

Founding the Khalsa

A Fresco of Guru Gobind Singh ji and The Panj Piare in Gurdwara Bhai Than Singh built in the reign of Maharaja Ranjit Singh.

In 1699, the Guru requested the Sikhs to congregate at Anandpur on Vaisakhi (the annual spring harvest festival). According to the Sikh tradition, he asked for a volunteer. One came forward, whom he took inside a tent. The Guru returned to the crowd alone, with a bloody sword. He asked for another volunteer, and repeated the same process of returning from the tent without anyone and with a bloodied sword four more times. After the fifth volunteer went with him into the tent, the Guru returned with all five volunteers, all safe. He called them the Panj Pyare and the first Khalsa in the Sikh tradition.

Guru Gobind Singh ji then mixed water and sugar into an iron bowl, stirring it with a double-edged sword to prepare what he called Amrit (“nectar”). He then administered this to the Panj Pyare, accompanied with recitations from the Adi Granth, thus founding the khande ka pahul (baptization ceremony) of a Khalsa – a warrior community. The Guru also gave them a new surname “Singh” (lion). After the first five Khalsa had been baptized, the Guru asked the five to baptize him as a Khalsa. This made the Guru the sixth Khalsa, and his name changed from Guru Gobind Rai to Guru Gobind Singh. This initiation ceremony replaced the charan pahul ritual practiced by the previous gurus, in which an initiate would drink the water either the Guru or a masand of the guru had dipped their right toe in.

Guru Gobind Singh ji Jayanti | गुरु गोबिंद सिंह जी जयंती

जन्म :- पौषशुक्ल सप्तमी संवत् 1723 विक्रमी तदनुसार 22 दिसम्बर 1666- ਜਯੋਤੀ ਜੋਤ 7 अक्टूबर 1708

खालसा पंथ की स्थापना

गुरु गोबिंद सिंह जी का नेतृत्व सिख समुदाय के इतिहास में बहुत कुछ नया ले कर आया। उन्होंने सन 1699 में बैसाखी के दिन खालसा जो की सिख धर्म के विधिवत् दीक्षा प्राप्त अनुयायियों का एक सामूहिक रूप है उसका निर्माण किया।

Founding the Khalsa by Guru Gobind Singh ji

A Fresco of Guru Gobind Singh and The Panj Piare in Gurdwara Bhai Than Singh built in the reign of Maharaja Ranjit Singh.

Guru Gobind Singh ji Family and early life

Gobind Singh was the only son of Guru Tegh Bahadur, the ninth Sikh guru, and Mata Gujri. He was born in Patna, Bihar on 22 December 1666 while his father was visiting Bengal and Assam. His birth name was Gobind Das/Rai, and a shrine named Takht Sri Patna Harimandar Sahib marks the site of the house where he was born and spent the first four years of his life. In 1670, his family returned to Punjab, and in March 1672 they moved to Chakk Nanaki in the Himalayan foothills of north India, called the Sivalik range, where he was schooled.

गुरु गोबिंद सिंह जी का इतिहास

गुरु गोबिंद सिंह जी की पत्नियां, माता जीतो जी, माता सुंदरी जी और माता साहिबकौर जी थीं। बाबा अजीत सिंह, बाबा जुझार सिंह आपके बड़े साहिबजादे थे जिन्होंने चमकौर के युद्ध में शहादत प्राप्त की थीं। और छोटे साहिबजादों में बाबा जोरावर सिंह और फतेह सिंह को सरहंद के नवाब ने जिंदा दीवारों में चुनवा दिया था। युद्ध की दृष्‍टि से आपने केसगढ़, फतेहगढ़, होलगढ़, अनंदगढ़ और लोहगढ़ के किले बनवाएं। पौंटा साहिब आपकी साहित्यिक गतिविधियों का स्थान था।

अधिक जानकारी के लिए विजिट वेबसाइट…….

5/5 - (2 votes)
What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro
Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Refresh