Jaimini.in » hanuman chalisa marathi lyrics » भारतीय संविधान के भाग – Part Of Indian Constitution

भारतीय संविधान के भाग – Part Of Indian Constitution

भाग 10 (Part x)  अनुसूचित और जनजाति क्षेत्र ( The Schedule and Tribal Areas ) 

  • अनुच्छेद 244 : अनुसूचित क्षेत्रों और जनजाति क्षेत्रों का प्रशासन 
  • अनुच्छेद 244-क : असम के कुछ जनजाति क्षेत्रों को समाविष्ट करने वाला एक स्वशासी राज्य बनाना और उसके लिए स्थानीय विधान-मंडल या मंत्रि-परिषद का या दोनों का सृजन।

भाग 11 (Part XI) संघ और राज्यों के बीच संबंध ( Relations between the Union and the States

अध्याय 1- विधायी संबंध ( Legislative Relations )

 विधायी शक्तियों का वितरण ( Distribution of Legislative Powers ) 

  • अनुच्छेद 245 : संसद द्वारा और राज्यों के विधान-मंडलों द्वारा बनाई गई विधियों का विस्तार 
  • अनुच्छेद 246 : संसद द्वारा और राज्यों के विधान-मंडलों द्वारा बनाई गई विधियों की विषय-वस्तु 
  • अनुच्देद 247 : कुछ अतिरिक्त न्यायालयों की स्थापना का उपबंध करने की संसद की शक्ति
  • अनुच्छेद 248 : अवशिष्ट विधायी शक्तियां
  • अनुच्छेद 249 : राज्य सूची में के विषय के संबंध में राष्ट्रीय हित में विधि बनाने की संसद् की शक्ति | 
  • अनुच्छेद 250 : यदि आपात की उद्घोषणा प्रवर्तन में हो तो राज्य सूची में के विषय के संबंध में विधि बनाने की संसद् की शक्ति | 
  • अनुच्छेद 251 : संसद् द्वारा अनुच्छेद 249 और अनुच्छेद 250 के अधीन बनाई गई विधियों और राज्यों के विधान-मंडलों द्वारा बनाई गई विधियों में असंगति | 
  • अनुच्छेद 252 : दो या अधिक राज्यों के लिए उनकी सहमति से विधि बनोन की संसद् की शक्ति और ऐसी विधि का किसी अन्य राज्य द्वारा अंगीकार किया जाना। 
  • अनुच्छेद 253 : अंतर्राष्ट्रीय करारों को प्रभावी करने के लिए विधान 
  • अनुच्छेद 254 : संसद द्वारा बनाई गई विधियों और राज्यों के विधान-मंडलों द्वारा बनाई गई विधियों में असंगति | 
  • अनुच्छेद 255 : सिफारिशों और पूर्व मंजूरी के बारे में अपेक्षाओं को केवल प्रक्रिया के विषय मानना

अध्याय 2- प्रशासनिक संबंध ( Administrative Relations )

साधारण (General) 

  • अनुच्छेद 256 : राज्यों की और संघ की बाध्यता
  • अनुच्छेद 257 : कुछ दशाओं में राज्यों पर संघ का नियंत्रण 
  • अनुच्छेद 257-क : (निरसित) 
  • अनुच्छेद 258 : कुछ दशाओं में राज्यों को शक्ति प्रदान करने आदि की संघ की शक्ति 
  • अनुच्छेद 259 : (निरसित) । 
  • अनुच्छेद 260 : भारत के बाहर के राज्यक्षेत्रों के संबंध में संघ की अधिकारिता 
  • अनुच्छेद 261 : सार्वजनिक कार्य अभिलेख और न्यायिक
  • कार्यवाहियां 
  • जल संबंधी विवाद (Disputes relating to Waters) । 
  • अनुच्छेद 262 : अंर्तराज्यिक नदियों या नदी-दूनों के जलसंबंधी विवादों का न्यायनिर्णयन 

राज्यों के बीच समन्वय ( Co-ordinations between States ) 

  • अनुच्छेद 263 : अंर्तराज्यीय परिषद् के संबंध में उपबंध

भाग 12 (Part XII) वित्त, संपत्ति, संविदाएं और वाद (Finance, Property, Contracts and Suits) 

अध्याय 1- वित्त ( Finance

साधारण ( General )

  • अनुच्छेद 264 : निर्वचन 
  • अनुच्छेद 265 : विधि के प्राधिकार के बिना करों का अधिरोपण न किया जाना 
  • अनुच्छेद 266 : भारत और राज्यों की संचित निधियां और लोक लेखे 
  • अनुच्छेद 267 : आकस्मिकता निधि 

संघ और राज्यों के बीच राजस्वों का वितरणDistribution of Revenues between the Union and the States

  • अनुच्छेद 268 : संघ द्वारा उद्गृहीत किए जाने वाले किंतु राज्यों द्वारा संगृहीत और विनियोजित किए जाने वाले शुल्क 
  • अनुच्छेद 269 : संघ द्वारा उद्गृहीत और संगृहीत तथा किंतु राज्यों को सौंपे जाने वाले कर 
  • अनुच्छेद 270 : संघ द्वारा उद्गृहीत और संगृहीत तथा संघ और राज्यों के बीच वितरित किए जाने वाले कर 
  • अनुच्छेद 271 : कुछ शुल्कों और करों पर संघ के प्रयोजनों के लिए अधिभार 
  • अनुच्छेद 272 : कर जो संघ द्वारा उद्गृहीत किए जाते हैं तथा जो संघ और राज्यों के बीच वितरित किए जा सकेंगे 
  • अनुच्छेद 273 : जूट पर और जूट उत्पादों पर निर्यात शुल्क के स्थान पर अनुदान 
  • अनुच्छेद 274 : ऐसे कराधान पर, जिसमें राज्य हितबद्ध है, प्रभाव डालने वाले विधेयकों के लिए राष्ट्रपति की पूर्व सिफारिश की अपेक्षा अनुच्छेद 275 : कुछ राज्यों को संघ से अनुदान 
  • अनुच्छेद 276 : वृत्तियों, व्यापारों, आजीविकाओं औरनियोजनों पर कर 
  • अनुच्छेद 277 : व्यावृत्ति 
  • अनुच्छेद 278 : (निरसित) 
  • अनुच्छेद 279 : “शुद्ध आगम’ आदि की गणना 
  • अनुच्छेद 280 : वित्त आयोग 
  • अनुच्छेद 281 : वित्त आयोग की सिफारिशें

प्रकीर्ण वित्तीय उपबंध ( Miscellaneous Financial Provisions

  • अनुच्छेद 282 : संघ या राज्य द्वारा अपने राजस्व से किए जाने वाले व्यय 
  • अनुच्छेद 283 : संचित निधियों, आकस्मिकता निधियों और लोक लेखाओं में जमा धनराशियों की अभिरक्षा आदि | 
  • अनुच्छेद 284 : लोक सेवकों और न्यायालयों द्वारा प्राप्त वादकर्ताओं की जमा राशियां और अन्य धनराशियों की अभिरक्षा | 
  • अनुच्छेद 285 : संघ की संपत्ति को राज्य के करों से छूट 
  • अनुच्छेद 286 : माल के क्रय या विक्रय पर कर के अधिरोपण के बारे में निर्बधन । 
  • अनुच्छेद 287 : विद्युत पर करों से छूट 
  • अनुच्छेद 288 : जल या विद्युत के संबंध में राज्यों द्वारा कराधान से कुछ दशाओं में छूट 
  • अनुच्छेद 289 : राज्यों की संपत्ति और आय को संघ के कराधान से छुट 
  • अनुच्छेद 290 : कुछ व्ययों और पेंशनों के संबंध में समायोजन 
  • अनुच्छेद 290-क : कुछ देवस्यम् निधियों को वार्षिक संदाय 
  • अनुच्छेद 291 : (निरसित) | 

अध्याय 2 – उधार लेना ( Borrowig

  • अनुच्छेद 293 : राज्यों द्वारा उधार लेना 

अध्याय 3- संपत्ति, संविदाएं, अधिकार, दायित्व, बाध्यताएं और वाद ( Property, Contracts, Rights, Liabilities, Obligations and Suits ) 

  • अनुच्छेद 294 : कुछ दशाओं में संपत्ति, आस्तियों, अधिकारों, दायित्वों और बाध्यताओं का उत्तराधिकार 
  • अनुच्छेद 295 : अन्य दशाओं में संपत्ति, आस्तियों, अधिकारों,दायित्वों और बाध्यताओं का उत्तराधिकार 
  • अनुच्छेद 296 : राजगानी या व्यपगत या स्वामीविहीन होने से प्रोद्भूत संपत्ति | 
  • अनुच्छेद 297 : राज्यक्षेत्रीय सागर-खंड या महाद्वीपीय मग्नतट भूमि में स्थित मूल्यवान चीजों और अनन्य आर्थिक क्षेत्र के संपत्ति स्रोतों का संघ में निहित होना 
  • अनुच्छेद 298 : व्यापार करने आदि की शक्ति 
  • अनुच्छेद 299 : संविदाएं 
  • अनुच्छेद 300 : वाद और कार्यवाहियां 

अध्याय 4- संपत्ति का अधिकार ( Right to Property

  • अनुच्छेद 300-क : विधि के प्राधिकार के बिना व्यक्तियों को संपत्ति से वंचित न किया जाना

भाग 13 (Part XIII) भारत के राज्यक्षेत्र के भीतर व्यापार, वाणिजय और समागम ( Trade, Commerce and Intercourse within the Territory of India

  • अनुच्छेद 301 : व्यापार, वाणिज्य और सभागम की स्वतंत्रता 
  • अनुच्छेद 302 : व्यापार, वाणिज्य और सभागम पर निर्बधन अधिरोपित करने की संसद् की शक्ति 
  • अनुच्छेद 303 : व्यापार और वाणिज्य के संबंध में संघ और राज्यों की विधायी शक्तियों पर निर्बधन 
  • अनुच्छेद 304 : राज्यों के बीच व्यापार, वाणिज्य और समागम पर निर्बधन
  • अनुच्छेद 305 : विद्यमान विधियों और राज्यों के एकाधिकार का उपबंध करनेवाली विधियों की व्यावृत्ति 
  • अनुच्छेद 306 : (निरसित) 
  • अनुच्छेद 307 : अनुच्छेद 301 से अनुच्छेद 304 के प्रयोजनों को कार्यान्वित करने के लिए प्राधिकारी की नियुक्ति

अध्याय 1 – सेवाएं ( Services

  • अनुच्छेद 308 : निर्वचन 
  • अनुच्छेद 309 : संघ का राज्य की सेवा करने वाले व्यक्तियों की भर्ती और सेवा की शर्ते 
  • अनुच्छेद 310 : संघ या राज्य की सेवा करने वाले व्यक्तियों की पदावधि 
  • अनुच्छेद 311 : संघ या राज्य के अधीन सिविल हैसियत में नियोजित व्यक्तियों का पदच्युत किया जाना पद से हटाया जाना या पंक्ति में अवनत किया जाना 
  • अनुच्छेद 312 : अखिल भारतीय सेवाएं 
  • अनुच्छेद 312-क : कुछ सेवाओं के अधिकारियों की सेवा की शर्तों में परिवर्तन करने या उन्हें प्रतिसंहृत करने की संसद् की शक्ति 
  • अनुच्छेद 313 : संक्रमणकालीन उपबंध 
  • अनुच्छेद 314 : (निरसित) 

अध्याय 2- लोक सेवा आयोग ( Public Service Commissions

  • अनुच्छेद 315 : संघ और राज्यों के लिए लोक सेवा आयोग 
  • अनुच्छेद 316 : सदस्यों की नियुक्ति और पदावधि 
  • अनुच्छेद 317 : लोक सेवा आयोग के किसी सदस्य का हटाया जाना और निलंबित किया जाना 
  • अनुच्छेद 318 : आयोग के सदस्यों और कर्मचारिगृह की सेवा की शर्तों के बारे में विनियम बनाने की शक्ति 
  • अनुच्छेद 319 : आयोग के सदस्यों द्वारा ऐसे सदस्य न रहने पर पद धारण करने के संबंध में प्रतिषेध 
  • अनुच्छेद 320 : लोक सेवा आयोगों के कृत्य अनुच्छेद 321 : लोक सेवा आयोगों पर कृत्यों का विस्तार करने की शक्ति 
  • अनुच्छेद 322 : लोक सेवा आयोगों के व्यय अनुच्छेद 322 : लोक सेवा आयोगों के प्रतिवेदन

भाग 14-क (Part XIVA) अधिकरण ( Tribunals )

  • अनुच्छेद 323-क : प्रशासनिक अधिकरण
  • अनुच्छेद 323-ख : अन्य विषयों के लिए अधिकरण

भाग 15 (Part XV) निर्वाचन ( Elections

  • अनुच्छेद 324 : निर्वाचनों के अधीक्षण, निर्देशन और नियंत्रण का निर्वाचन, आयोग में निहित होना 
  • अनुच्छेद 325 : धर्म, मूलवंश, जाति या लिंग के आधार पर किसी व्यक्ति का निर्वाचक नामावली में सम्मिलित किए जाने के लिए अपात्र न होना और उसके द्वारा किसी विशेष निर्वाचक-नामावली में सम्मिलित किए जाने का दावा न किया जाना
  • अनुच्छेद 326 : लोक सभा और राज्यों की विधान सभाओं के लिए निर्वाचनों का वयस्क मताधिकार के आधार पर होना 
  • अनुच्छेद 327 : विधान-मंडलों के लिए निर्वाचनों के संबंध में उपबंध करने की संसद की शक्ति 
  • अनुच्छेद 328 : किसी राज्य के विधान-मंडल के लिए निर्वाचनों के संबंध में उपबंध करने की उस विधान-मंडल की शक्ति अनुच्छेद 329 : निर्वाचन संबंधी मामलों में न्यायालयों के हस्तक्षेप का वर्जन 
  • अनुच्छेद 329-क : (निरसित)

भाग 16 (Part XVII कछ वर्गों के संबंध में विशेष उपबंध ( Special provisions relating to Certain Classes

  • अनुच्छेद 330 : लोक सभा में अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के लिए स्थानों का आरक्षण | 
  • अनुच्छेद 331 : लोक सभा में आंग्ल-भारतीय समुदाय का प्रतिनिधित्व 
  • अनुच्छेद 332 : राज्यों को विधानसभाओं में अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के लिए स्थानों का आरक्षण 
  • अनुच्छेद 333 : राज्यों की विधानसभाओं में आंग्ल-भारतीय समुदाय का प्रतिनिधित्व 
  • अनुच्छेद 334 : स्थानों के आरक्षण और विशेष प्रतिनिधित्व का पचास वर्ष के पश्चात न रहना 
  • अनुच्छेद 335 : सेवाओं और पदों के लिए अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के दावे 
  • अनुच्छेद 336 : कुछ सेवाओं में आंग्ल-भारतीय समुदाय के लिए विशेष उपबंध 
  • अनुच्छेद 337 : आंग्ल-भारतीय समुदाय के फायदे के लिए शैक्षिक अनुदान के लिए विशेष उपबंध 
  • अनुच्छेद 338 : अनुसूचित जातियों, अनुसूचित जनजातियों आदि के लिए विशेष जानकारी अनुच्छेद 339 : अनुसूचित क्षेत्रों के प्रशासन और अनुसूचित जनजातियों के कल्याण के बारे में संघ का नियंत्रण 
  • अनुच्छेद 340 : पिछड़े वर्गों की दशाओं के अन्वेषण के लिए आयोग की नियुक्ति 
  • अनुच्छेद 341 : अनुसूचित जातियां | 
  • अनुच्छेद 342 : अनुसूचित जनजातियाँ

भाग 17 (Part XVII) राजभाषा ( Official Language

अध्याय 1- संघ की भाषा ( Language of the Union

  • अनुच्छेद 343 : संघ की राजभाषा (हिन्दी)
  • अनुच्छेद 344 : राजभाषा के संबंध में आयोग और संसद की समिति

अध्याय 2- प्रादेशिक भाषाएं ( Regional Languages

  • अनुच्छेद 345 : राज्य की राजभाषा या राजभाषाएं
  • अनुच्छेद 346 : एक राज्य और दूसरे राज्य के बीच या किसी राज्य और सघ के बीच पत्रादि की राजभाषा 
  • अनुच्छेद 347 : किसी राज्य की जनसंख्या के किसी अनुभाग द्वारा बोली जानेवाली भाषा के संबंध में विशेष उपबंध

अध्याय 3- उच्चतम न्यायालय, उच्च न्यायालयों आदि की भाषा ( Language of the Supreme Courts, High Courts etc. ) 

  • अनुच्छेद 348 : उच्चतम न्यायालय और उच्च न्यायालयों में और अधिनियमों, विधेयकों आदि के लिए प्रयोग की जाने वाली भाषा 
  • अनुच्छेद 349 : भाषा से संबंधित कुछ विधियां अधिनियमित करने के लिए विशेष प्रक्रिया 

अध्याय 4- विशेष निदेश ( Special Directives

  • अनुच्छेद 350 : व्यथा के निवारणके लिए अभ्यावेदन में प्रयोग की जाने वाली भाषा 
  • अनुच्छेद 350-क : प्राथमिक स्तर पर मातृभाषा में शिक्षा की सुविधाएं 
  • अनुच्छेद 350-ख : भाषाई अल्पसंख्यक-वर्गों के लिए विशेष अधिकारी 
  • अनुच्छेद 351: हिन्दी भाषा के विकास के लिए निदेश

भाग 18 (Part XVIII) आपात उपबंध ( Emergency Provisions ) 

  • अनुच्छेद 352 : आपात की उद्घोषणा अनुच्छेद 353 : आपात की उद्घोषणा का प्रभाव 
  • अनुच्छेद 354 : जब आपात की उद्घोषणा प्रवर्तन में है तब राजस्वों के वितरण संबंधी उपबंधों का लागू होना 
  • अनुच्छेद 355 : बाह्य आक्रमण और आंतरिक अशांति से राज्य की सुरक्षा करने का संघ का कर्तव्य –
  •  अनुच्देद 356 : राज्यों में सांविधानिक तंत्र के विफल हो जाने की दशा में उपबंध 
  • अनुच्छेद 357 : अनुच्छेद 356 के अधीन की गई उद्घोषणा के अधीन विधायी शक्तियों का प्रयोग 
  • अनुच्छेद 358 : आपात के दौरान अनुच्छेद 19 के उपबंधों के निलंबन 
  • अनुच्छेद 359 : आपात के दौरान भाग 3 द्वारा प्रदत्त अधिकारों के प्रवर्तन का निलबंन 
  • अनुच्छेद 359क : (निरसित) 
  • अनुच्छेद 360 : वित्तीय आपात के बारे में उपबंध

भाग 19 (Part XIX) – Miscelianeous

  • अनुच्छेद 361 : राष्ट्रपति और राज्यपालों और राजप्रमुखों का संरक्षण 
  • अनुच्छेद 361-क : संसद और राज्यों के विधान-मंडलों की कार्यवाहियों के प्रकाशन का संरक्षण 
  • अनुच्छेद 362 : (निरसित) 
  • अनुच्छेद 363 : कुछ संविदों, करारों आदि से उत्पन्न विवादों में न्यायालयों के हस्तक्षेप का वर्जन 
  • अनुच्छेद 363-क : देशी राज्यों के शासकों को दी गई मान्यता की समाप्ति और निजी शैलियों का अंत 
  • अनुच्छेद 364 : महापत्तनों और विमानक्षेत्रों के बारे में विशेष उपबंध 
  • अनुच्छेद 365 : संघ द्वारा दिए गए निदेशों का अनुपालन करने में या उनको प्रभावी करने में असफलता का प्रभाव 
  • अनुच्छेद 366 : परिभाषाएं 
  • अनुच्छेद 367 : निर्वचन

भाग 20 (Part XX) संविधान का संशोधनAmendment of the Constitution

  • अनुच्छेद 368 : संविधान का संशोधन करने की संसद की शक्ति और उसके लिए प्रक्रिया

भाग 21 (Part XXI) अस्थायी, सक्रमणकालीन और विशेष उपबंधTemporary, Transitional and Special Provisions

  • अनुच्छेद 369 : राज्य सूची के कुछ विषयों के संबंध में विधि बनाने को संसद की इस प्रकार अस्थायी शक्ति मानों वे समवर्ती सूची के विषय हो 
  • अनुच्छेद 370 : जम्मू-कश्मीर राज्य के संबंध में अस्थायी उपबंध 
  • अनुच्छेद 371 : महाराष्ट्र और गुजरात राज्यों के सम्बन्ध में विशेष उपबंध 
  • अनुच्छेद 371-क : नागालैंड राज्य के संबंध में विशेष उपबंध 
  • अनुच्छेद 371-ख : असम राज्य के संबंध में विशेष उपबंध 
  • अनुच्छेद 371–ग : मणिपुर राज्य के संबंध में विशेष उपबंध 
  • अनुच्छेद 371–घ : आंध्र प्रदेश राज्य के संबंध में विशेष उपबंध 
  • अनुच्छेद 371-ङ : आंध्र प्रदेश में केंद्रीय विश्वविद्यालय की स्थापना 
  • अनुच्छेद 371-च : सिक्किम राज्य के संबंध में विशेष उपबंध | 
  • अनुच्छेद 371-छ : मिजोरम राज्य के संबंध में विशेष उपबंध 
  • अनुच्छेद 371-ज : अरुणाचल प्रदेश राज्य के संबंध में विशेष उपबंध 
  • अनुच्छेद 371-झ : गोवा राज्य के संबंध में विशेष उपबंध 
  • अनुच्छेद 372 : विद्यमान विधियों का प्रवृत्त बने रहना और उनका अनुकूलन 
  • अनुच्छेद 372-क : विधियों का अनुकूलन करने की राष्ट्रपति की शक्ति 
  • अनुच्छेद 373 : निवारक निरोध में रखे गए व्यक्तियों के संबंध में कुछ दशाओं में आदेश करने की राष्ट्रपति की शक्ति 
  • अनुच्छेद 374 : फेडरल न्यायालय के न्यायाधीशों के और फेडरल न्यायालय में यह परिषद हिज मेजेस्टी के समक्ष लंबित कार्यवाहियों के बारे में उपबंध 
  • अनुच्छेद 375 : संविधान के उपबंधों के अधीन रहते हुए न्यायालयों पदाधिकारियों और अधिकारियों का कृत्य करते रहना 
  • अनुच्छेद 376 : उच्च न्यायालयों के न्यायाधीशों के बारे में उपबंध 
  • अनुच्छेद 377 : भारत के नियंत्रक-महालेखापरीक्षक के बारे में उपबंध 
  • अनुच्छेद 378 : लोक सेवा आयोगों के बारे में उपबंध 
  • अनुच्छेद 378-क : आंध्र प्रदेश विधान सभा की अवधि के बारे में विशेष उपबंध 
  • अनुच्छेद 379-391 : (निरसित) 
  • अनुच्छेद 392 : कठिनाइयों को दूर करने की राष्ट्रपति की शक्ति

भाग 22 (Part XXII) संक्षिप्त नाम, प्रारंभ, हिंदी में प्राधिकृत पाठ और निरसनShort Title, Commencement, Authoritative Text In Hindi and Repeals

  • अनुच्छेद 393 : संक्षिप्त नाम
  • अनुच्छेद 394 : प्रारंभ
  • अनुच्छेद 394-क : हिंदी भाषा में प्राधिकृत पाठ 
  • अनुच्छेद 395 : (निरसित)
Rate this post
Scroll to Top
Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro
Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Refresh